धामी ने सुशासन एवं पारदर्शिता के लिए प्रदेश के सरकारी विभागों हेतु जेम पोर्टल को लागू किया ताकि सरकारी खरीद में शत- प्रतिशत भ्रष्टाचार समाप्त हो सके: अजेंद्र अजय

बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने कहा मुख्यमंत्री धामी ने सुशासन एवं पारदर्शिता के लिए प्रदेश के सरकारी विभागों हेतु जेम पोर्टल को लागू किया ताकि सरकारी खरीद में शत- प्रतिशत भ्रष्टाचार समाप्त हो सके

मुख्यमंत्री धामी ने सुशासन एवं पारदर्शिता के लिए प्रदेश के सरकारी विभागों हेतु जेम पोर्टल को लागू किया ताकि सरकारी खरीद में शत- प्रतिशत भ्रष्टाचार समाप्त हो सके:अध्यक्ष अजेंद्र अजय

धामी ने सुशासन एवं पारदर्शिता के लिए प्रदेश के सरकारी विभागों हेतु जेम पोर्टल को लागू किया ताकि सरकारी खरीद में शत- प्रतिशत भ्रष्टाचार समाप्त हो सके: अजेंद्र अजय

श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति अधिकारियों- कर्मचारियों की जेम प्रशिक्षण कार्यशाला का हुआ समापन..

श्री बदरीनाथ – केदारनाथ मंदिर समिति अधिकारियों- कर्मचारियों की गवर्मेंट ई मार्केट प्लस -जेम पोर्टल संबंधित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्याशाला का ( बीकेटीसी) अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने किया था शुभारंभ

बीकेटीसी : कार्याशाला में जेम पोर्टल प्रशिक्षकों ने आन लाईन क्रय- विक्रय प्लेटफार्म की जानकारी दी

श्री बदरीनाथ – केदारनाथ मंदिर समिति अधिकारियों- कर्मचारियों की गवर्मेंट ई मार्केट प्लस -जेम पोर्टल संबंधित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्याशाला का मंदिर समिति केनाल रोड कार्यालय सभागार में श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति ( बीकेटीसी) अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने शुभारंभ किया..
कार्याशाला में जेम पोर्टल प्रशिक्षकों ने आन लाईन क्रय- विक्रय प्लेटफार्म की जानकारी दी.

इस अवसर पर बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने कहा कि प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सुशासन एवं पारदर्शिता के लिए प्रदेश के सरकारी विभागों हेतु जेम पोर्टल को लागू किया ताकि सरकारी खरीद में शत- प्रतिशत भ्रष्टाचार समाप्त हो सके।

वर्ष 2022-23 में मंदिर समिति में विभागीय खरीददारी तथा क्रय- विक्रय कायों हेतु जेम पोर्टल को अनिवार्य कर दिया।
उन्होंने कहा कि जेम एक आनलाईन पारदर्शी प्लेटफार्म है जिसमें उच्च श्रेणी गुणवत्तायुक्त सामान, उचित मूल्य की सार्वजनिक खरीद संभव है।

यह भी पढ़ें -  'जीरो टोलेरेंस' वाली त्रिवेंद्र सरकार को चैलेंज देने वाली 'AAP' खुद तमाम घपलों में घिरी, कैग रिपोर्ट में खुली पोल

इस अवसर पर उत्तराखंड सरकार अधिकृत जेम पोर्टल के मुख्य प्रशिक्षक दीपक गोयल ने कार्यशाला में शामिल प्रशिक्षार्थियों को दो सत्रों में प्रशिक्षण दिया। पहले सत्र में जेम पोर्टल का इतिहास,केंद्रीय उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जेम पोर्टल निर्माण संबंधित जानकारी दी, बताया कि किस तरह केंद्र में जेम पोर्टल के सकारात्मक परिणामों के बाद राज्य सरकारों ने पारदर्शी क्रय- विक्रय हेतु जेम पोर्टल को अपनाया।

बीकेटीसी मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि प्रशिक्षण कार्यशाला के द्वितीय सत्र में श्री बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति के परिप्रेक्ष्य में जेम पोर्टल की व्याख्या की गयी प्रशिक्षण में आये अधिकारियों कर्मचारियों के सुझावों के अनुरूप चर्चा हुई।
मंदिर समिति में प्रयुक्त पूजा सामग्री, राशन, स्टेशनरी, फर्नीचर, निर्माण संबंधित सामग्री,एवं समय- समय पर जरूरी खरीद वस्तुओं की उचित दरों पर आनलाईन प्लेट फार्म पर खरीद कैसे करे यह भी जानकारी दी गयी।

कार्यशाला में अधिशासी अभियंता अनिल ध्यानी सहायक अभियंता गिरीश देवली , सहायक अभियंता विपिन तिवारी, जेई गिरीश रावत, विवेक थपलियाल, भूपेंद्र रावत, प्रमोद बगवाड़ी, जगमोहन बर्त्वाल, संतोष तिवारी, संदेश मेहता,मनोज शुक्ला, देवीप्रसाद तिवारी, संजय तिवारी, विश्वनाथ, दीपेंद्र रावत, देवेंद्र पटवाल, उमेश शुक्ला, वैभव उनियाल आदि ने प्रतिभाग किया।



उत्तराखंड की ताजा खबरें पढ़ने के लिए हमसे जुड़ें


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here