तुष्टिकरण और बहुसंख्यकों के हित विरोधियों की जमानत जब्त करेगी जनता

कांग्रेस का घोषणा पत्र मुस्लिम तुष्टिकरण से प्रेरित, सच से बौखला रही कांग्रेस: चौहान

तुष्टिकरण और बहुसंख्यकों के हित विरोधियों की जमानत जब्त करेगी जनता


मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस के न्याय पत्र को लेकर जो कहा वह पूर्णतया सत्य है, जिसका स्वयं कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में भी जिक्र किया है.

 

भाजपा ने कांग्रेस के घोषणा पत्र को मुस्लिम लीग के घोषणा पत्र से प्रेरित बताया

कांग्रेस की अतीत से लेकर वर्तमान तक एक समुदाय के हित मे तुष्टिकरण की नीति रही है और उसके घोषणा पत्र ने फिर इसे साबित कर दिया है

 

आज देश की तरह प्रदेश के कांग्रेस नेताओं को भी अपनी जीत का भरोसा दूर-दूर तक नहीं है

कांग्रेस की राष्ट्रीय नेतृत्व ने मुस्लिम लीग और वामपंथी विचारकों के सहयोग से अपना घोषणा पत्र बनाया है

कांग्रेस बहुसंख्यक वाद का विरोध करती हैं अर्थात अल्पसंख्यकवाद तुष्टिकरण की नीति से परहेज नहीं है लेकिन बहुसंख्यक हित नही चलेगा

 

भाजपा ने कांग्रेस के घोषणा पत्र को मुस्लिम लीग के घोषणा पत्र से प्रेरित और स्वाभाविक बताते हुए कहा कि कांग्रेस की अतीत से लेकर वर्तमान तक एक समुदाय के हित मे तुष्टिकरण की नीति रही है और उसके घोषणा पत्र ने फिर इसे साबित कर दिया है। वहीं सच सामने आने पर वह बौखला गयी है।

पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने सीएम के बयान का समर्थन और कांग्रेस अध्यक्ष के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि अल्पसंख्यकों की तुष्टि के लिए बहुसंख्यकवाद का विरोध, मुस्लिम पर्सनल लॉ का समर्थन, CAA का विरोध, धारा 370 की वापिसीi अनगिनत वादे कांग्रेस ने मुस्लिम लीग के इस पत्र में साझा किए हैं। देवभूमि की सनातन संस्कृति और राष्ट्रवादी जनता उन्हे बहुसंख्यक समाज के प्रति अन्याय पत्र जारी करने के पाप का जवाब उनके उम्मीदवारों की जमानत जब्त कर देगी।

यह भी पढ़ें -  अटल आयुष्मान योजना के तहत सरकारी अस्पतालों में डायलसिस सेंटर पर 100 प्रतिषत प्रतिपूर्ति देगी धामी सरकार

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस के न्याय पत्र को लेकर जो कहा वह पूर्णतया सत्य है, जिसका स्वयं कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में भी जिक्र किया है। आज देश की तरह प्रदेश के कांग्रेस नेताओं को भी अपनी जीत का भरोसा दूर-दूर तक नहीं है । यही वजह है कि जिस तरह उनके राष्ट्रीय नेतृत्व ने मुस्लिम लीग और वामपंथी विचारकों के सहयोग से अपना घोषणा पत्र बनाया है उतनी ही गैर जिम्मेदाराना ढंग से उनके राज्य प्रतिनिधि इस पत्र को ले रहे हैं । लगता है कांग्रेस अध्यक्ष ने अपने घोषणा पत्र को पढ़ना भी जरूरी नहीं समझा। इस तरह सबसेi पहले तो उन्होंने ही अपने तथाकथित न्याय पत्र के साथ ही अन्याय किया है । कांग्रेस बहुसंख्यक वाद का विरोध करती हैं अर्थात अल्पसंख्यकवाद तुष्टिकरण की नीति से परहेज नहीं है लेकिन बहुसंख्यक हित नही चलेगा।
भाजपा ने सबका साथ और सबका विकास के नारे के साथ देश को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया, लेकिन कांग्रेस की तुष्टिकरण और वर्ग विशेष के प्रति प्रेम जगजाहिर है। आज मोदी के काल मे समाज के हर वर्ग को योजनाओं का लाभ समान रूप से मिल रहा है। स्वास्थ्य, शिक्षा और बुनियादी सुविधाएं सबको समान रूप से मिल रही है। I

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने वोट बैंक की खातिर तुष्टिकरण की नीति को आगे बढ़ाया और समय के साथ अब उसे इसका खामियाजा भी उठाना पड़ रहा है। तुष्टिकरण की नीति और सेकुलर दिखने की फिराक मे वह सनातन विरोध तक उतर आयी। कांग्रेस राम राज की कल्पना पर भी एतराज है, क्योकि इससे उसकी तुष्टिकरण की नीति पर चोट लगती है।

यह भी पढ़ें -  चंपावत उपचुनाव: फिर उत्तराखंड आएंगे योगी आदित्यनाथ, सीएम धामी के लिए घर-घर मांगेंगे वोट चंपावत उप चुनाव के लिए भाजपा ने 40 स्टार प्रचारकों को मैदान में उतारने का निर्णय लिया है

चौहान ने कहा कि 60 साल तक देश पर राज करने वाली कांग्रेस ने इतने साल सनातन के विरोध मे कार्य किया है। तुष्टिकरण मे कांग्रेस इस हद तक उतर आयी कि राम को काल्पनिक बताने के फेर मे सुप्रीम कोर्ट मे वकीलों की फौज उतार दी। कांग्रेस ने एक पक्ष के लिए तुष्टिकरण और दूसरे के साथ भेदभाव किया।

चौहान ने कहा कि भाजपा के पास केंद्र और राज्य मे उपलब्धियों को गिनाने के अनगिनत मुद्दे हैं और वह सबका साथ सबका विकास के साथ आगे बढ़ रही है। उत्तराखंड मे पिछले 60 साल मे जितना कार्य नही हुआ उससे कहीं अधिक 10 साल मे हुआ।J 10 साल मे 2 लाख करोड़ के लगभग कार्य हुए, जबकि कांग्रेस के कार्यकाल मे महज 15 प्रतिशत कार्य भी नही हुआ। चौहान ने कहा कि जनता उसे इस बार भी तुष्टिकरण का दंड देने वाली है। कांग्रेस ने मोदी को तीसरी बार भारी मत से जीत देने का मन बना लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here