गरिमा मेहरा दसौनी का धामी सरकार पर प्रहार : रैलियों-यात्राओं के बजाय चारधाम यात्रा खोलने के प्रति भी गंभीरता से सोचे

गरिमा मेहरा दसौनी का धामी सरकार पर प्रहार : रैलियों-यात्राओं के बजाय चारधाम यात्रा खोलने के प्रति भी गंभीरता से सोचे

देहरादून:
उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी की गढ़वाल मंडल मीडिया प्रभारी गरिमा मेहरा दसौनी ने राज्य सरकार पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया है। दसौनी ने कहा कि एक तरफ तो कोरोना की तीसरी लहर का हवाला देकर राज्य सरकार चारधाम यात्रा को लेकर कोई निर्णय नहीं ले रही है। वहीं दूसरी ओर अपनी चुनावी यात्राओं का आगाज कर चुकी है। दसोनी ने कहा की चारधाम यात्रा प्रदेश की आर्थिकी की रीढ़ है।
चारधाम यात्रा से लाखों लोगों के रोजगार जुड़े हुए हैं। चाहे पर्यटन कारोबारी हों या होटल व्यवसायी सभी सालभर चार धाम यात्रा का इंतजार करते हैं और उसी दौरान होने वाली कमाई से बाकी के समय अपने परिवारों का भरण पोषण करते हैं। ऐसे में इसे राज्य सरकार की संवेदनहीनता ही कहा जा सकता है कि राज्य सरकार चारधाम यात्रा के विषय में आज भी ऊहापोह की स्थिति में है।
दसौनी ने कहा कि जब सभी दल चुनावी मैदान में बिगुल फूंक चुके हैं और शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं, ऐसे में बेरोजगारी का दंश झेल रहे प्रदेश के लाखों युवाओं और व्यवसायियों के साथ ही धोखा क्यों किया जा रहा है? दसौनी ने कहा कि राज्य सरकार अपने लिए अलग और जनता के लिए अलग मानक पर चल रही है।
दसौनी ने राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि राज्य की जनता बहुत गौर से आप की नीतियों और कार्यशैली को देख रही है जो कि हर लिहाज से जन विरोधी हैं ।दसौनी ने राज्य सरकार से अपेक्षा की कि वह संवेदनशीलता का परिचय देते हुए चारधाम यात्रा को भी सुचारू रूप से चलाएं ताकि राज्य की जनता लाभान्वित हो सके। दसौनी ने यह भी कहा कि एक तरफ तो राज्य सरकार उत्तराखण्ड में फिल्म शूटिंग की धड़ल्ले से इजाजत दे रही है और पर्यटकों की आवाजाही पर भी कोई रोका टोकी नहीं है ऐसे में सिर्फ चार धाम पर ही सरकार की गाज क्यों गिर रही है?
दसौनी ने राज्य सरकार की नीतियों को विरोधाभासी करार करते हुए कहा कि यह राज्य सरकार की अदूरदर्शिता का ही परिणाम है कि आज राज्य का युवा खुद को हताश और निराश पा रहा है। महंगाई और बेरोजगारी का दंश इतनी गहराई तक राज्य के अंदर फैल चुका है कि आने वाले कई सालों तक इससे बाहर निकल पाना नामुमकिन हो जाएगा। दसोनी ने यह भी साफ किया चारधाम पर निर्णय सरकार को ही लेना है।चूंकि गूंगी-बहरी सरकार का जनता से कोई सरोकार नहीं है इसलिए विपक्षी दल होने के नाते कांग्रेस परिवर्तन यात्रा से उसकी आंखें खोलने का काम काम कर रही।

यह भी पढ़ें -  मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष, सभी कैबिनेट मंत्री, केंद्र एवं प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं एवं विषयगत मोर्चे पदाधिकारियों के पत्रकार संवाद कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here