विश्वप्रसिद्ध जागेश्वर धाम में BJP सांसद धर्मेंद्र कश्यप ने खोया आपा, मंदिर परिसर में दी भद्दी गालियां

विश्वप्रसिद्ध जागेश्वर धाम में BJP सांसद धर्मेंद्र कश्यप ने खोया आपा, मंदिर परिसर में दी भद्दी गालियां
*पुलिस मूकदर्शक क्यों बनी रही, लोगों में धार्मिक भावनाएं आहत होने से उबाल*

 

देहरादून

 

 

उत्तरप्रदेश के बरेली के आंवला से बीजेपी सांसद धर्मेंद्र कश्यप की दबंगई का वीडियो सामने आया है। वीडियो में बीजेपी सांसद अल्मोड़ा स्थित विश्वप्रसिद्ध जागेश्वर धाम मंदिर परिसर में एक व्यक्ति पर क्रोधित होकर गंदी-गंदी गालियाँ दे रहे हैं, गालियाँ ऐसी की आपको सुना भी नहीं सकते। बीजेपी सांसद पर आरोप है कि उन्होंने मंदिर बंद होने के समय परिसर में जाने की कोशिश की और प्रबंधक के मना करने पर सांसद गाली-गलौच पर उतर आए जिसका वीडियो वायरल हो गया।
अब बीजेपी सांसद की दबंगई का वीडियो वायरल होने के बाद उस पर उत्तराखंड के भीतर से तीखी प्रतिक्रिया आ रही हैं।
कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने दबंगई दिखाने वाले बीजेपी सांसद पर एक्शन की माँग की है।

बता दे कि जागेश्वर धाम जो की उत्तराखण्ड राज्य का एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल है, इस धाम में बीजेपी सांसद धर्मेंद्र कश्यप गाली गलौज और अमर्यादित भाषा का प्रयोग करते नजर आए और साथ ही धाम प्रबंधन समिति के पदाधिकारियों को धमकाते नजर आए। बीजेपी के नेता न तो ईश्वर का सम्मान करते हैं और न ही उत्तराखण्ड के आम जन का। इतने वर्षों से यह पार्टी राज्य में शासन करती आ रही है परंतु न तो वह हमारी संस्कृति से सम्मान करती है और न आम उत्तराखण्डी से। यह घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है
युवा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी इसका संज्ञान लें और इन बदतमीज सांसद के विरुद्ध उचित कार्यवाही करेंगे जिससे भविष्य में उत्तराखंड की संस्कृति और सम्मान के विरुद्ध कोई आवाज उठाने से पहले दस बार सोचेगा।

यह भी पढ़ें -  एस0जी0आर0आर0 विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर सेमीनार आयोजित

 

वहीं राजनीतिक दलों के अलावा कई सामाजिक और कर्मचारी संगठन भी घटना पर मुखर होकर कार्यवाही की डिमांड कर रहे। उत्तराखंड जनरल-ओबीसी एम्पलाइज एसोसिएशन और सचिवालय संघ के अध्यक्ष और कर्मचारी नेता दीपक जोशी ने भी घटना पर तीखी प्रतिक्रिया दी है।
आज राज्य के प्रतिष्ठित और अराध्य जोगेश्वर धाम में जनता से चुने हुए प्रतिनिधि, जिन्हें एक सांसद (BJP) के रूप में बताया गया है, को सोशल मीडिया में प्रसारित vedio में धाम के पुजारी और अन्य स्थानीय लोगों के साथ बदसलूकी, भद्दी और बेहूदी गालियों, अशिष्ट व अमर्यादित आचरण के साथ कथित तौर पर सरेआम गुंडागर्दी करते हुये देखा जा रहा है। यदि यह vedio सही और वास्तविक है तो यह देवभूमि को कलंकित करने वाला गम्भीर मामला है। यह हमारी आस्था के प्रतीक धाम के पुजारियों का घोर अपमान के साथ इस राज्य के समस्त निवासियों सहित देश-विदेश से आने वाले लाखों श्रद्धालुओं का भी घोर अपमान है। ऐसे बिगडैल सांसद को सही मायने में शिष्टाचार व आचरण की शिक्षा प्राप्त करनी चाहिये। हम राज्य के एक निवासी के रूप में ऐसे जन प्रतिनिधि की घोर निंदा करते हैं। धाम के पुजारियों से की गयी बदसलूकी हेतु ऐसे जनप्रतिनिधि को इस राज्य में दोबारा कदम रखने से पूर्व सार्वजनिक रूप से माफी मांगे जाने हेतु कहे जाने की मांग राज्य के मा0 मुख्यमंत्रीजी से करते हैं। यह इस राज्य के लिये बेहद शर्मनाक है कि कोई भी बाहरी व्यक्ति आकर यहां के मन्दिरों के सम्मानित पुजारियो व स्थानीय निवासियों से इस तरह से अपनी सत्ता की धौंस में बदसलूकी कर उनके आत्म सम्मान को आघात पहुंचाये। और हम मूक बधिरों की तरह सहते रहे, ऐसे जन प्रतिनिधियों को माकूल प्रतिउत्तर देना हम सभी को बखूबी आता है

यह भी पढ़ें -  कृषि कानूनों के विरोध में उत्तराखंड के किसानों की महापंचायत तीन फरवरी को होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here