मुख्यमंत्री तीरथ ने हरिद्वार महाकुंभ का किया शुभारंभ, बोले दिव्य भव्य कुंभ होगा, लेकिन कोविड गाइडलाइंस का पालन भी है जरूरी मुख्यमंत्री ने मीडिया सेंटर सहित एक सौ तिरपन करोड़ तिहत्तर लाख रूपये की लागत के 31 योजनाओं व कार्यों का किया लोकार्पण

मुख्यमंत्री तीरथ ने हरिद्वार महाकुंभ का किया शुभारंभ, बोले दिव्य भव्य कुंभ होगा, लेकिन कोविड गाइडलाइंस का पालन भी है जरूरी
मुख्यमंत्री ने मीडिया सेंटर सहित एक सौ तिरपन करोड़ तिहत्तर लाख रूपये की लागत के 31 योजनाओं व कार्यों का किया लोकार्पण
हरिद्वार।

 

*मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत* ने मंगलवार को नीलधारा चंडीद्वीप स्थित मीडिया सेंटर में महाकुंभ 2021 के निमित्त एक सौ तिरपन करोड़, तिहत्तर लाख रूपये की लागत से कराए गए लोकनिर्माण, सिंचाई, गृहविभाग, परिवहन निगम आदि के विभिन्न योजनाओं के कुल 31 कार्यों का लोकार्पण किया।
अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि आज महाकुंभ का विधिवत शुभारंभ हुआ है। मैने शपथ लेने के अगले ही दिन महाशिवरात्रि के शाही स्नान पर हरिद्वार में आकर मां गंगा के पूजन दर्शन और संतों का आशीर्वाद लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।
शाही स्नान के लिए आने वाले साधु संतों पर हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा कराई।
जिससे संत समाज प्रसन्न चित हुआ। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के दिन ही कुंभ का विधिवत शुभारंभ करने का संयोग मुझे मिला।
महाकुंभ बारह साल में ही होता है। हरिद्वार का कुंभ और ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व का है। यह भव्य दिव्य होना चाहिए, लेकिन कोविड के गाइडलाइंस का पालन भी जरूरी है। आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश के 130 करोड़ से अधिक जनता सुरक्षित महसुस कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बताए कोविड के नियमों का पालन करने में हमें कोई कोताही नहीं बरतनी चाहिए।
घर और समाज में भी इसका पालन कर खूब गंगा में आस्था की डुबकी लगाकर पुण्य प्राप्त करें,
कोई रोकटोक नहीं है। यह स्नान करने के लिए जिन लोगों ने बारह वर्ष पूर्व मन्नत मांगी थी, उसका हरिद्वार और ऋषिकेश के गंगा घाटों पर गंगा स्नान कर पुण्य लाभ प्राप्त करें।
किन्नर अखाड़़ा भी हमारे लिए पूजनीय है। आज कुंभ क्षेत्र में हर ओर साधु संत दिख रहे हैं। साधु संतों के शिविरों और आश्रमों में पानी, बिजली, शौचालय, घाटों पर सभी प्रबंथ के लिए कुंभ से संबंधित चार जिलों के अधिकारियों को निर्देशित किया है।
यदि कोई अधिकारी अपने जिम्मेदारी में लापरवाही करेगा तो बख्शा नहीं जाएगा। लेकिन यहां कहना चाहता हूं कि एक अखाड़़े के साधु संतों ने व्यवस्था में लगे अधिकारी के साथ जो हरकत किया गया,
वह भी शोभा नहीं देता है। कोविड काल में अधिकारियों ने खुद व अपने परिवार की चिंता न कर सबकी सेवा की।
अच्छा कार्य करने वाले अधिकारियों को सम्मान किया जाएगा, लापरवाही पर दंडित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि साधु संतों, अखाड़़ों, महामंडलेश्वर और यहां तक कि किन्नर अखाड़़े के साधु संतों को भी जमीन और व्यवस्था देने की सरकार और उसके अधिकारी बहुत कम समय में कर रहे हैं।
हम साधु संतों की सेवा में दिनरात एक कर अधिकारियों के माध्यम से जुटे हैं और जुटे रहेंगे।
लेकिन अधिकारियों का भी मनोबल न टूटे इसका ध्यान संत समाज को भी रखना चाहिए। जरूरत पड़ी तो मैं स्वयं भी साधु संतों के बीच रात दिन गुजारने को तैयार हूं।
हरिद्वार बनारस के बाद दूसरा विकसित शहर बन गया है, इसके लिए मैं केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का भी आभार प्रकट करता हूं।
मैने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अन्य नेताओं को कुंभ स्नान के लिए आमंत्रित कर चुका हूं।
अंत में सभी को दिव्य, भव्य कुंभ के लिए शुभकामनाएं देता हूं।
उन्होंने कहा कि मीडिया कर्मियों को शत प्रतिशत कोविड वैक्सीनेशन कराया जा रहा है। इसी के साथ आज मीडिया सेंटर का भी लोकार्पण किया हूं।

यह भी पढ़ें -  शेला रानी रावत ने हमेशा समाज के अंतिम छोर में खड़े लोगों की आवाज को उठाने और समाधान की ओर ले जाने का कार्य किया। उनका सरल, सहज एवं मृदुभाषी व्यक्तित्व था : मुख्यमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here