’’स्वप्न यही है, लक्ष्य यही है, उत्तराखंड को श्रेष्ठ बनाना है सत्य यही है, संकल्प यही है, देवभूमि का मान बढ़ाना है आगे ही बढ़ते जाना है, आगे ही बढ़ते जाना है’’:धामी

’’स्वप्न यही है, लक्ष्य यही है, उत्तराखंड को श्रेष्ठ बनाना है
सत्य यही है, संकल्प यही है, देवभूमि का मान बढ़ाना है आगे ही बढ़ते जाना है, आगे ही बढ़ते जाना है’’:धामी

 

 

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने
सर्वप्रथम सभी को उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी , साथ ही उन्होंने उत्तराखंड गौरव सम्मान से सम्मानित सभी महानुभावों को भी हार्दिक बधाई देता हूं।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि आज के इस शुभ अवसर पर मैं, उत्तराखंड राज्य निर्माण में अपना योगदान देने वाले सभी अमर शहीदों एवं राज्य आंदोलनकारियों को श्रद्धापूर्वक नमन करता हूं।

मैं, भारत माता की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले उत्तराखंड के वीर जवानों को भी उत्तराखंड की समस्त जनता की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

धामी ने आज के दिन , पुलिस के उन शहीद जवानों व अधिकारियों का भी स्मरण किया , जिन्होंने प्रदेश एवं समाज में शांति स्थापित करने के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया।

धामी ने कहा कि आज की मनोहारी परेड को देखकर अत्यंत अभिभूत हूं, परेड में भाग लेने वाले सभी जवानों को मैं, सुंदर परेड प्रस्तुत करने के लिए बधाई देता हूं।

उन्होंने आज के दिन पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न परम श्रद्धेय स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी का भी स्मरण किया , जिनके प्रधानमंत्रित्व काल में उत्तराखंड राज्य का स्वप्न साकार हुआ था।

धामी ने कहा कि भाईयो-बहनो, यह हमारा कर्तव्य है कि स्वर्गीय अटल जी द्वारा पुष्पित और पल्लवित इस युवा उत्तराखंड को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने के लिए पूरी निष्ठा के साथ निरंतर प्रयासरत रहें

 

यह भी पढ़ें -  पौखार के पास एक यूटिलिटी खाई में गिरने में से पांच लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। जबकि तीन घायलों को पिलखी अस्पताल लाया गया है। वाहन में सवार सभी लोग स्थानीय बताए गए हैं।

धामी ने आज की परेड की मुख्य अतिथि देश की प्रथम नागरिक आदरणीय राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी का भी ह्दय की गहराईयों से देवभूमि आगमन पर हार्दिक स्वागत एवम् अभिनंदन करते हुये कहा कि
आप सदैव ’’सादा जीवन-उच्च विचार’’ के मूल मंत्र पर चलती रहीं और यही कारण है कि आज जन-जन के भीतर यही भाव है कि उनके बीच से निकली एक आम महिला देश कि प्रथम नागरिक है।

 

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से मैं और मेरी सरकार उत्तराखंड को देश का श्रेष्ठ राज्य बनाने के लिए दिन रात कार्य कर रहे हैं

भाईयो-बहनो, हमारी सरकार विकास के लिए प्रतिबद्ध है, जनता के प्रति जवाबदेह है, भरोसेमंद है तथा अपने कार्य में दक्ष है।

23 साल में पहली बार बहुत से काम हुए हैं।

धामी ने कहा कि 23 साल में पहली बार भर्तियों में घोटाले करने वालों पर कड़ी क़ानूनी कार्रवाई के लिए हमने नकल विरोधी कानून लागू किया है।

23 साल में पहली बार धर्मांतरण रोकने के लिए कानून लागू किया गया है।

23 साल में पहली बार हमने लैंड जिहाद और लव जिहाद के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है।

23 साल में पहली बार उत्तराखंड में सामान नागरिक आचार संहिता कानून लागू करने के लिए तैयारी की जा रही है।

23 साल में पहली बार प्रदेश की महिलाओं के लिये 30 प्रतिशत के क्षैतिज आरक्षण की व्यवस्था लागू की गई है।

23 साल में पहली बार भ्रष्टाचारियों पर सख्त कार्यवाही हो रही है।

23 साल में पहली बार राजस्व पुलिस की जगह रेगुलर पुलिस की तैनाती की जा रही है।

23 साल में पहली बार आपदा प्रबंधन पर विश्व स्तरीय कार्यक्रम उत्तराखंड में होने जा रहा है।

23 साल में पहली बार उत्तराखंड, डेस्टिनेशन उत्तराखंड के रूप में निवेश का हब बनने जा रहा है।

मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि
हमने जो प्रयास किया है, हमने जो मेहनत की है, वो आपके सामने है और हमारा संकल्प है कि हम इस प्रकार के कार्य करते रहेंगे।
उन्होंने कहा हमारी सरकार का एकमात्र लक्ष्य है-उत्तराखण्ड का विकास।
हमारा एकमात्र ध्येय है-उत्तराखण्ड की प्रगति,
अपने इस ध्येय की प्राप्ति के लिए हम पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ आपकी सेवा में जुटे हुए हैं

वही धामी ने कहा कि हमारा संकल्प है कि हम उत्तराखंड को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाएं और हमें विश्वास है कि आप सभी के सहयोग से हम इस लक्ष्य को हासिल करने में अवश्य सफल होंगे।

वही मुख्यमंत्री धामी ने आज के शुभ अवसर पर घोषणाएं भी की

1. प्रदेश की मातृशक्ति के समग्र विकास एवं सशक्तिकरण के उद्देश्य से हमने ’’महिला नीति’’ बनाई है, जिसको शीघ्र ही लागू किया जाएगा।

2. देवभूमि के भविष्य को सुरक्षित रखने हेतु ’’बाल श्रम उन्मूलन’’ के लिए समस्त विभागों के समन्वय के साथ एक विशिष्ट कार्ययोजना बनाई जाएगी।

3. ड्रग फ्री उत्तराखंड के स्वप्न को साकार करने के लिए हम ’’नशा मुक्त ग्राम’’ और ’’नशा मुक्त शहर’’ की योजना लाएं हैं, ऐसे क्षेत्रों को विशेष प्रोत्साहन दिया जाएगा।

4. राज्य निर्माण में मातृशक्ति की महत्वपूर्ण भूमिका रही है और महिलाएं हमारे राज्य की रीढ़ हैं। जरूरतमंद परिवारों को आवश्यक सहायता उपलब्ध कराने हेतु ’’मुख्यमंत्री कन्या सामूहिक विवाह’’ योजना शुरू की जाएगी। जिला स्तर पर इस तरह के आयोजन किए जाएंगे और राज्य सरकार इसकी व्यवस्था करेगी।

अंत में, मुख्यमंत्री धामी ने माननीय राष्ट्रपति महोदया का उत्तराखंड पधारने पर पुनः ह्दय की गहराईयों से धन्यवाद करते हुए उत्तराखंड को देश का श्रेष्ठ राज्य बनाने के अपने ’’विकल्प रहित संकल्प’’ को दर्शाने वाली अपनी इन पंक्तियों के साथ अपनी बात कों समाप्त किया

’’स्वप्न यही है, लक्ष्य यही है, उत्तराखंड को श्रेष्ठ बनाना है
सत्य यही है, संकल्प यही है, देवभूमि का मान बढ़ाना है आगे ही बढ़ते जाना है, आगे ही बढ़ते जाना है’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here