स्वर्णमंडन मे कांग्रेस का खोट निकलना स्वाभाविक, सनातनी मंदिरों पर निशाना उसका मिशन:चौहान मस्जिद, मदरसों के चंदे पर डोल जाता है साहस, पवित्र धामों की छवि खराब करने का षड्यंत्र

मस्जिद, मदरसों के चंदे पर डोल जाता है साहस, पवित्र धामों की छवि खराब करने का षड्यंत्र…

स्वर्णमंडन मे कांग्रेस का खोट निकलना स्वाभाविक, सनातनी मंदिरों पर निशाना उसका मिशन:चौहान

मस्जिद, मदरसों के चंदे पर डोल जाता है साहस, पवित्र धामों की छवि खराब करने का षड्यंत्र

 

भाजपा ने कहा कि केदारनाथ धाम के गर्भ गृह मे हुए स्वर्णमंडन कार्य मे कांग्रेस और उसके समाजवादी मित्रों का खोट ढूंढना स्वाभाविक है, क्योकि वह हमेशा ही सनातनी संस्कृति और मंदिरो को निशाने पर लेते रहे है और यह उनका मिशन भी रहा है। जबकि अन्य धर्मों के मामले मे वह अपने होंठ सिल लेते है और सेकुलर बन जाते है।

पार्टी प्रदेश मीडिया प्रभारी मनवीर सिंह चौहान ने सनातन धामों को भव्यता देने के प्रयासों पर बेवजह विवाद खड़ा करने के कांग्रेस और उनके सहयोगियों के रवैये को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है । उन्होंने कहा कि आधी अधूरी व अपुष्ट जानकारी के आधार पर कांग्रेस समेत विभिन्न राजनैतिक पार्टियों की बयानबाजी दर्शाती है कि वे सनातनी संस्कृति व सभ्यता के प्रति गैरजिम्मेदाराना नजरिया रखती है । मंदिर समिति स्पष्ट कर चुकी है कि सभी कार्य दानदाता द्वारा स्वयं उचित प्रक्रिया व सम्पूर्ण कागजातों को प्रस्तुत कर किये गए हैं । इसके बावजूद राजनैतिक दल नकारात्मक
राजनीति से प्रेरित होकर अनर्गल बयान देकर हमारे पवित्र धामों की छवि खराब करने के षड्यंत में जुटे हैं
चौहान ने सवाल करते हुए कहा, इन्हें अवैध धार्मिक अतिक्रमणों में कुछ भी गलत नजर नही आता है और उल्टा इन पर होने वाली कार्यवाही के विरोध में खड़े हैं। मस्जिदों और मदरसों को मिलने वाले चंदे और उनके खर्चों पर कुछ कहने मे उनका साहस डोल जाता है। लेकिन सनातनी संस्कृति, सभ्यता और तीर्थस्थलों के पुनर्निर्माण, भव्यता देने या वहां की व्यवस्था सुधार को लेकर किये प्रत्येक कार्य में बाधा उत्पन्न करना उनका नैतिक धर्म बन गया है। उनकी मंशा तब भी उजागर हुई थी जब गर्भ गृह को स्वर्णमंडित करने के इस धर्मार्थ कार्य मे बाधा डालने के लिए उन्होंने धर्म एवं परंपरा के ग़लत आधार पर तर्क देने की कोशिश की। देश विदेश से आने वाले लाखों पर्यटक इस कार्य की प्रशंसा कर रहे हैं, लेकिन सनातन धर्म विरोधी ऐसे राजनैतिक दलों को यह पच नही रहा है और पवित्र धामों एवं देवभूमि की छवि खराब करने के प्रयास में जुटे हुए हैं ।
उन्होंने विश्वास जताया कि विरोधी दल चाहे कितने ही प्रयास कर ले, लेकिन देवभूमि की धार्मिक, सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक पहचान को संरक्षित और अधिक भव्य बनाने की कोशिश जनता के आशीर्वाद से अनवरत जारी रहेगी

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड सुबह से हो रही बारिश से गधेरे उफान पर बह गई कार पुल भी खतरे के निशान पर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here