एसजीआरआर स्कूल ऑफ पैरामैडिकल में अन्तर्राष्ट्रीय रेडियोलॉजी दिवस पर रंगारंग कार्यक्रम

एसजीआरआर स्कूल ऑफ पैरामैडिकल में

अन्तर्राष्ट्रीय रेडियोलॉजी दिवस पर रंगारंग कार्यक्रम

 

पोस्टर प्रतियोगा का प्रथम पुरस्कर अनुभव, आयुषी प्रसाद, वंदना गुंसाई व सोनिया रावत के नाम

 

शिवांगी रावत, सालिह युनुस व हिमानी बिष्ट की टीम के मॉडल अव्वल

 

देहरादून।

 

 

श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ पैरामैडिकल साइंसेज़ में अन्तर्राष्ट्रीय रेडियोलॉजी दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दीं। विशेषज्ञों की रेडियोलॉजी की बारीकियों से अवगत करवाया। वर्ष 2022 की अन्तर्राष्ट्रीय रेडियोलॉजी दिवस की थीम रेडियोग्राफर्स एट दि फोर फ्रंट ऑफ पेशेंट सेफ्टी है।

गुरुवार को श्री गुरु राम राय स्कूल ऑफ पैरामैडिकल साइंसेज़ के प्रांगण में कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के रेडियोलॉजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ राजीव आजाद विशिष्ट अतिथि रेडियोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ राजेन्द्र श्रीवास्तव, श्री गुरु राम राय पैरामैडिकल कॉलेज, कोटद्वार के प्राचार्य डॉ. गिरीश उनियाल व श्री गुरु राम राय स्कूल ऑफ पैरामैडिकल साइंसेज़ की डीन डॉ मालविका सिंह ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलन कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्य अतिथि डॉ राजीव आजाद ने कहा कि मेडिकल साइंस में रेडियोलॉजी आने के बाद क्रांतिकारी परिवर्तन हुए हैं। रेडियोलॉजी जॉच रिपोर्ट बीमारी की सटीक पहचान करने में अहम भूमिका निभा रहा है। रेडियोलॉजी की जॉच रिपोर्ट ने बीमारी के उपचार के प्रति प्रति डॉक्टर का नजरिया व निर्णय और स्पष्ट करने में महत्वपूर्णं भूमिका निभाई है।

रेडियोलॉजी के आधुनिक उपचार व तकनीकों से सम्बन्धित विषयों पर उत्कृष्ट पोस्टर व मॉडल बनाने वाले छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया। पोस्टर प्रतियोगा का प्रथम पुरस्कर अनुभव, आयुषी प्रसाद, वंदना गुंसाई व सोनिया रावत की टीम अव्वल रही वहीं मॉडल बनाने में शिवांगी रावत, सालिह युनुस व हिमानी बिष्ट की टीम को प्रथम पुरस्कार मिला। क्विज प्रतियोगिता मंे आर पी बिष्ट ने प्रथम पुरस्कार प्राप्त कर बाजी मारी।

यह भी पढ़ें -  एसजीआरआर विश्वविद्यालय में शांति भंग, बलवा, मानहानि, रंगदानी मांगने पर मुकदमा दर्ज

स्कूल ऑफ पैरामैडिकल की बीएमआरआईटी की छात्रा अंजलि सेमवाल ने रेडियोलॉजी के मेडिकल इतिहास व आधुनिक तकनीकों पर प्रकाश डाला। डॉ मालविका सिंह ने छात्र-छात्राओं को बाजार की मांग के अनुरूप तैयार होने के बारे में विशेष टिप्स दिए। उन्होंने कहा कि रेडियोलॉजी दिवस एक्सरे के अविष्कारक व नोबल प्राइज विजेता सर विलहेल्म कोनार्ड रोइंगटिजन के सम्मान में मनाया जाता है। किसी भी विशेषज्ञता के डॉक्टर के सटीक बीमारी की पहचान का रास्ता रेडियोलॉजी की रिपोर्ट पर ही आधारित है। कार्यक्रम में डॉ राजेन्द्र श्रीवास्तव, डॉ गिरीश उनियाल ने भी विचार व्यक्त किए।  वोट ऑफ थैंक्स स्कूल ऑफ पैरामैडिकल साइंसेज की मेडिकल रेडियो इमेजिंग टैक्नोलॉजी की विभागाध्यक्ष असिस्टेंट प्रोफेसर दिव्या चौहान ने दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में डॉ नेहा चौहान, निशा ध्यानी एवम् निवेदिता का विशेष योगदान रहा।

 



उत्तराखंड की ताजा खबरें पढ़ने के लिए हमसे जुड़ें


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here